नोकरेक नेशनल पार्क, मेघालय

सुबह 6 बजे तुरा शहर मॉर्निंग वाक पर था,  मैं होटल से चेक-आउट कर नोकरेक नेशनल पार्क (दरिबोकगरे बेस कैम्प) के लिए रवाना हो रहा था। तुरा गारो हिल्स का सबसे बड़ा शहर है, इसे मेघालय की दूसरी राजधानी भी माना जाता है। यही से पूर्व लोकसभा अध्यक्ष पी.ए. संगमा लोकसभा जाते थे। यहाँ की… Continue reading नोकरेक नेशनल पार्क, मेघालय

शिलांग से तुरा की यात्रा

        मैं गुवाहाटी से शिलांग 04 मार्च, 2018 को पंहुचा था। वहां से अगले दिन मावफलांग पहुँचा। मावफलांग से मधुर यादों के साथ 06 मार्च, 2018 की दोपहर में नोकरेक नेशनल पार्क के लिए रवाना हो गया। मावफलांग से चार किलोमीटर चलने पर मावंलाप गाँव आता है, यही से शिलांग से नोंगस्टोइन को जोड़ने वाला  NH-106 मिलता है।… Continue reading शिलांग से तुरा की यात्रा

मावलीननोंग – एक आदर्श गाँव की खोज

आज (13.03.2018) मेघालय दर्शन का नौवां दिन था और आखिरी चरण भी। आज की यात्रा के लिए एक अरसे से उत्साहित था क्योंकि मैं मावलीननोंग यानी एशिया के सबसे स्वच्छ गांव जाने वाला हूँ। मावलीननोंग मेघालय के पूर्व खासी हिल्स जिले का एक छोटा-सा गांव है जो 2003 में सुर्खियों में आ गया जब डिस्कवर… Continue reading मावलीननोंग – एक आदर्श गाँव की खोज